बवासीर में चाय पीनी चाहिए या नहीं – Bawasir Me Chai Peena Chahiye Ya Nahi

Advertisement

इस पोस्ट में आपको बताया गया है कि बवासीर में चाय या काफी पी सकते है या नहीं, इस बारे में और अधिक विस्तार से जानने के लिए पोस्ट को अंत तक पढ़ें।

बवासीर आज के समय में एक गंभीर समस्या बन चुकी है। यह ऐसी बीमारी है जो पहले के समय में अधिक उम्र के लोगों में देखने को मिलती थी। लेकिन आज के समय में यह समस्या युवाओं और बच्चों में होना भी आम बात हो गयी है। इस बीमारी में मरीजों को बहुत ही असहनीय दर्द का सामना करना पड़ता है। साथ ही इस बीमारी में व्यक्ति को बैठने और लेटने में भी दर्द होता है। असहनीय दर्द की वजह से लोगों को दवाइयों के साथ-साथ ना चाहते हुए भी सर्जरी तक सहारा भी लेना पड़ता है। बवासीर में सर्जरी का सहारा ना देना पड़े और जीवनभर दवाइयां न खाना पड़े इसके लिए आपको अपने डेली रूटीन चेंज करना होगा, और आपको अपना खान पान पर विशेष ध्यान देना होगा।

बवासीर को लेकर अधिकतर लोगों की यह धारणा रहती है कि एक बार बवासीर की समस्या खत्म हो गई तो दोबारा नहीं होगी, परंतु ऐसा नहीं है। यह समस्या दोबारा भी हो सकती है। आपको अपने खान-पान पर ध्यान देने की जरूरत है। ऐसे में बवासीर के मरीजों को क्या सेवन करना चाहिए और क्या नहीं, यह एक बड़ी समस्या है। बहुत से मरीजो द्वारा गूगल यह प्रश्न पूछा गया कि बवासीर में चाय पीनी चाहिए या नहीं, तो इस पोस्ट में हम आपको आपके इसी प्रश्न का उत्तर देने वाले है, तो आप भी यह जानना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

बवासीर-में-चाय-पीनी-चाहिए-या-नही (2)

Also Read: बवासीर में बादाम खाना चाहिए या नहीं 

Advertisement

बवासीर में चाय पीनी चाहिए या नहीं

सबसे पहले हम आपको बता दे कि चाय में कैफीन युक्त नशीला प्रदार्थ होता है यदि आप पहले से ही अधिक तनाव, गैस, नींद की समस्या, अल्सर एवं उच्च रक्तचाप की समस्या से पीड़ित हैं तो आपको कैफीन यूक्त चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।

बवासीर के मरीजों के लिए चाय और कॉफी नुकसानदेह होती हैं। चाय और कॉफी में कैफीन के अधिक मात्रा होती है। चाय में मौजूद कैफीन की अधिक मात्रा हमारे शरीर के लिए हानिकारक साबित हो सकती है। कैफीन पाचन के लिए ठीक नहीं होता है। चाय में कैफिन होने की वजह से कब्ज की समस्या बढ़ जाती है जिससे शरीर में पानी की कमी हो जाती है। इसके अलावा मल कठोर होने की वजह से एनस वेंस पर प्रेशर डालता है जिससे मल त्यागने में काफी दिक्कत होती है। साथ ही कैफीन युक्त पदार्थों के सेवन से आंतों में सूजन होने की संभावना अधिक होती है।

बवासीर से पीड़ित व्यक्ति को चाय और कॉफी का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि चाय और कॉफी बवासीर की समस्याओं को बढ़ाने का काम करते हैं। साथ ही चाय और कॉफी में मौजूद केफीन पेट में जलन पैदा करता है। अगर बवासीर से पीड़ित हैं और यदि आपको चाय की आदत है तो आप चाय की बजाय ग्रीन टी भी पी सकते है। ग्रीन टी आपकी सेहत के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है, साथ ही बवासीर में ग्रीन टी मल को नरम करने में मदद करती है। इसलिए चाय पीने की बजाय आप आज से ही ग्रीन टी पीने की आदत डाले।

तो इस पोस्ट के माध्यम से आपको पता चल ही गया होगा कि बवासीर के रोगियों को चाय और कॉफी जैसे पेय पदार्थ कितने नुकसानदायक होते है इसलिए अगर आप बवासीर के मरीज है तो आपको इन चीजों से दुरी बनाये रखना चाहिए, क्योंकि कैफीन युक्त यह चीजें बवासीर के रोगियों के लिए बहुत नुकसानदेह होती है।

Also Read: बवासीर में केला खाना चाहिए या नहीं

Advertisement

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.